Sorry, you need to enable JavaScript to visit this website.

भाषा शिक्षा

You are here

राष्‍ट्रीय उर्दू भाषा संवर्धन परिषद

राष्‍ट्रीय उर्दू भाषा संवर्धन परिषद ने स्‍वायत्‍त निकाय के तौर पर दिनांक 01.04.1996 से कार्य करना प्रारंभ किया। एनसीपीयूएल को देश में उर्दू भाषा के लिए समर्पित तथा उर्दू शिक्षा को मुख्‍य धारा में शामिल करने हेतु राष्‍ट्रीय उर्दू प्रोत्‍साहन नोडल एजेंसी घोषित किया गया था। एनसीपीयूएल को अरबी एवं पारसी भाषाओं के संवर्धन का दायित्‍व भी सौंपा गया है, जिन्‍होंने भारत की समग्र संस्‍कृति के विकास में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई है। परिषद का एक महत्‍वपूर्ण उद्देश्‍य उर्दू भाषी लोगों को उभरते हुए सूचना प्रौद्योगिकी परिदृश्‍य में नियोजनीय प्रौद्योगिकीय कार्यबल के रूप में परिवर्तित करना तथा कम्‍प्‍यूटर शिक्षा को जमीनी स्‍तर तक पहुंचाना है। एनसीपीयूएल को देशभर के उर्दू संगठनों की नेटवर्किंग का दायित्‍व सौंपा गया है ताकि सरकार की नीतियों को देश के उर्दू भाषी क्षेत्रों में कार्यान्वित किया जा सके। परिषद के उद्देश्‍य इस प्रकार हैं :-

  • उर्दू भाषा का संवर्धन, विकास एवं प्रचार-प्रसार।
  • वैज्ञानिक एवं प्रौद्योगिकीय विकास तथा आधुनिक परिदृश्‍य में विकसित ज्ञान को उर्दू भाषा में उपलब्‍ध करवाने के लिए कार्रवाई करना।
  • सरकार द्वारा इसे संदर्भित उर्दू भाषा से जुड़े हुए मुद्दों पर परामर्श देना।
  • परिषद द्वारा उपयुक्‍त समझे जाने वाले उर्दू भाषा के संवर्धन से जुड़े हुए कार्यकलाप प्रारंभ करना।

राष्‍ट्रीय उर्दू भाषा संवर्धन परिषद निम्‍नलिखित कार्यक्रमों का कार्यान्‍वयन कर रहा है :-

  • सुलेखन एवं ग्राफिक डिजाइन केन्‍द्र।
  • उर्दू भाषा के संवर्धन हेतु चयनित कार्यकलापों के लिए 57 गैर-सरकारी संगठनों को वित्‍तीय सहायता।
  • मौलिक लेखकों/संपादकों/अनुवादकों इत्‍यादि को बहुमूल्‍य पुस्‍तकों के लेखन हेतु प्रोत्‍साहित करने के लिए पुस्‍तकों की थोक खरीददारी।
  • विशेषज्ञों द्वारा यथा मूल्‍यांकन के बाद उर्दू पाण्‍डुलिपियों के मुद्रण हेतु व्‍यक्तियों/गैर-सरकारी संगठनों को वित्‍तीय सहायता प्रदान करना।
  • लघु एवं मध्‍यम उर्दू अखबारों को वित्‍तीय सहायता प्रदान करना।
  • गुणवत्‍तापरक बाल साहित्‍य तथा उर्दू माध्‍यम के स्‍कूलों की पाठ्य-पुस्‍तकों को तैयार करने के लिए प्रकाशन कार्यक्रम।
  • उर्दू के संवर्धन हेतु सेमिनारों, संगोष्‍ठी एवं कार्यशालाओं का आयोजन।
  • हिन्‍दी एवं अंग्रेजी माध्‍यमों से उर्दू पाठ्यक्रम डिप्‍लोमा।
  • उर्दू ऑनलाइन कार्यक्रम।
  • कार्यात्‍मक अरबी में प्रमाण-पत्र एवं डिप्‍लोमा पाठ्यक्रम।

और ब्‍यौरे के लिए, यहां क्लिक करें : www.urducouncil.nic.in