Sorry, you need to enable JavaScript to visit this website.

अंतर्राष्‍ट्रीय सहकारिता प्रकोष्‍ठ

You are here

यूनेस्‍को के बारे में

यूनेस्‍को या संयुक्‍त राष्‍ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्‍कृतिक संगठन, विभिन्‍न सभ्‍यताओं, संस्‍कृतियों और लोगों के बीच सामुदायिक सांझे मूल्‍यों के लिए सम्‍मान पर आधारित बातचीत के लिए वातावरण तैयार करता है। इस बातचीत के माध्‍यम से विश्‍व धारणीय विकास के ग्‍लोबीय सार्वभौमिक स्‍वपन को प्राप्‍त करने की आशा रखता है जिसमें मानवीय अधिकारों को मानना, परस्‍पर सम्‍मान और गरीबी उन्‍मूलन शामिल हैं सभी यूनेस्‍को मिशन और अन्‍य कार्यकलापों में समाये हुए हैं।

अंतर्राष्‍ट्रीय समुदाय के स्‍पष्‍ट लक्ष्‍य और ठोस उद्देश्‍य जो कि अंतर्राष्‍ट्रीय रूप से सर्वसम्‍मत विकास लक्ष्‍यों में, मिलेनियम विकास उद्देश्‍यों (एमडीजी) सहित निर्धारित किए गए हैं, में यूनेस्‍कों की सभी कार्यनीतियों और कार्यकलापों का उल्‍लेख किया गया है। अत: शिक्षा विज्ञानों, संस्‍कृति और संचार तथा सूचना में यूनेस्‍को की अनूठी क्षमताएं इन उद्देश्‍यों की पूर्ति के लिए योगदान करती हैं।

यूनेस्‍को का मिशन शांति निर्माण, गरीबी उन्‍मूलन, धारणीय विकास और शिक्षा के माध्‍यम से अंत:सांस्‍कृतिक बातचीत, विज्ञान, संस्‍कृति, संचार और सूचना में योगदान करना है। यह संगठन विशेष तौर पर निम्‍नलिखित दो प्राथमिकताओं पर फोकस करता है:

1. अफ्रीका

2. जेन्‍डर समानता (महिला-पुरूष समानता)

यूनेस्‍को के प्रमुख उद्देश्‍य हैं:

  • सभी के लिए गुणवत्‍तायुक्‍त शिक्षा प्राप्‍त करना और जीवन पर्यन्‍त अधिगम।
  • धारणीय विकास के लिए नीति और विज्ञान की जानकारी को गतिशील बनाना।
  • उभरती हुई सामाजिक और नैतिक चुनौतियों का समाधान करना।
  • सांस्‍कृतिक विविधता, अंत:सांस्‍कृतिक बातचीत और शान्ति की संस्‍कृति को बढ़ावा देना।
  • सूचना और संचार के माध्‍यम से समावेशी ज्ञान सोसायटियों का निर्माण करना।

यूनेस्‍को के वैश्विक प्रचालनों के बारे में अधिक ब्‍यौरे के लिए यहां क्लिक करें http://www.unesco.org

भारत में यूनेस्‍को

यूनेस्‍को का नई दिल्‍ली कार्यालय एशिया में इस संगठन का प्रथम विकेन्‍द्रीकृत कार्यालय है जिसकी स्‍थापना सन् 1948 में हुई थी। अपने प्रारंभ से यह 11 दक्षिणी और केन्‍द्रीय एशियाई देशों अर्थात् अफगानिस्‍तान, बंगलादेश, भूटान, भारत, ईरान, मालदीप, मंगोलिया, म्‍यांमार, नेपाल, पाकिस्‍तान और श्रीलंका में विज्ञान और प्रौद्योगिकी कार्यक्रमों पर कार्रवाई करता है। समय पर इसने सूचना कार्यक्रमों को शामिल किया है और उसके थोड़ा बाद शिक्षा और संस्‍कृति को शामिल करने के लिए इसका विस्‍तार किया गया।

यूनेस्‍को की नई विकेन्‍द्रीकरण नीति के भाग के रूप में, यूनेस्‍को नई दिल्‍ली को वर्तमान में कलस्‍टर कार्यालय के रूप में नामित किया गया है और यह यूनेस्‍को की क्षमता के सभी क्षेत्रों नामत: शिक्षा, प्राकृतिक और सामाजिक विज्ञानों, संस्‍कृति, संचार और सूचना के कार्यकलापों को बांटने का मंच है। यह द्विर्षी क्‍लस्‍टर अर्थात् स्‍वयं के भीतर एकीकृत और संगठन के समग्र लक्ष्‍यों के साथ कार्य का कार्यान्‍वयन करता है। इसे मौलिक प्रचालन सिद्धांतों – सदस्‍य देशों के राष्‍ट्रीय आयोगों, प्रादेशिक कार्यालयों, सिविल सोसायटी के प्रतिनिधियों और अन्‍य स्‍टेकहोल्‍डरों और साझेदारों के साथ परामर्श और सहमति के माध्‍यम से किया जाता है। नई दिल्‍ली कार्यालय को अब दक्षिण एशिया के छ: देशों – बंगलादेश, भूटान, भारत, मालदीप, नेपाल और श्रीलंका को शामिल करने का अधिदेश है।

बंगलादेश और नेपाल में यूनेस्‍को कार्यक्रमों का कार्यान्‍वयन क्रमश: ढाका में यूनेस्‍को कार्यालय (होमपेज में जाएं) और काठमांडू (होमपेज में जाएं) में किया जाता है।

यूनेस्‍को भारत के बारे में अधिक ब्‍यौरे के लिए यहां क्लिक करें: http://portal.unesco.org