तकनीकी शिक्षा

You are here

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई)

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) की स्‍थापना परामर्शी निकाय के रूप में 1945 में की गई और बाद में वर्ष 1987 में इसे संसद के अधिनियम द्वारा सांविधिक दर्जा दिया गया। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद तकनीकी संस्‍थान खोलने, नए पाठ्यक्रम प्रारंभ करने और तकनीकी संस्‍थाओं में दाखिला क्षमता में विविधता के लिए अनुमोदन देता है। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद ने नए संस्‍थानों की प्रक्रिया और अनुमोदन के लिए, नए पाठ्यक्रम प्रारंभ करने और डिप्‍लोमा स्‍तर के तकनीकी संस्‍थाओं के लिए दाखिला क्षमता में विविधता के लिए संबंधित राज्‍य सरकारों को शक्तियों का प्रत्‍यायोजन किया है। इसने ऐसे संस्‍थानों के लिए मानक और मापदंड भी निर्धारित किए है। यह तकनीकी संस्‍थाओं या कार्यक्रमों के प्रत्‍यायन द्वारा तकनीकी शिक्षा के गुणवत्‍ता विकास को भी सुनिश्चित करता है। अपने विनियामक भूमिका के अतिरिक्‍त अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद की प्रोत्‍साहित करने संबंधी महत्‍वपूर्ण भूमिका भी है जो इसे महिलाओं, नि:शक्‍तजनों के लिए तकनीकी शिक्षा को प्रोत्‍साहित करके अपनी योजनाओं के द्वारा इन्‍हें कार्यान्वित करता है जिसमें यह नवाचार, संकाय, अनुसंधान और विकास, तकनीकी संस्‍थाओं को अनुदान देने आदि को प्रोत्‍साहित करता है।

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के तहत तकनीकी संस्‍थाओं में तकनीकी शिक्षा के वृह्त परिदृश्‍य में स्‍नातकोत्‍तर, अवर-स्‍नातक और डिप्‍लोमा शामिल हैं जिसमें इंजीनियरिंग/ प्रौद्योगिकी, फार्मेसी, वास्‍तुशिल्‍प, होटल प्रबंधन और केटरिंग प्रौद्योगिकी, प्रबंध अध्‍ययन, कम्‍प्‍यूटर एप्‍लीकेशन और अनुपयुक्‍त कला और शिल्‍प शामिल हैं।

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद का मुख्‍याल नई दिल्‍ली में है और इसके 7 क्षेत्रीय कार्यालय कोलकाता, चेन्‍नई, कानपुर, मुंबई, चंडीगढ़, भोपाल और बंगलौर में स्थित हैं। हैदराबाद में एक नया क्षेत्रीय कार्यालय स्‍थापित किया गया है और यह शीघ्र ही कार्यात्‍मक हो जाएगा।

परिषद अपने कार्यों का संचालन कार्यकारी परिषद के माध्‍यम से करता है।

अधिक जानकारी के लिए www.aicte-india.org पर क्लिक करें