छात्रवृत्ति और शिक्षा ऋण

You are here

सिंहावलोकन

छात्रवृत्ति समाज के कमजोर वर्गों से संबंधित उन छात्रों के लिए सौगात है जो एक या अन्‍य कारण से अपनी शिक्षा पूरी करने में असमर्थ रहते हैं। छात्रवृत्ति ऐसे छात्र जो प्रतिभाशाली हैं लेकिन उनके पास आगे पढ़ने के साधन नहीं होते बढ़ावा एवं प्रोत्‍साहन है। इस समय कई प्रकार की छात्रवृत्तियां हैं – प्रतिभा आधारित, जरूरत आधारित, छात्र-विशिष्‍ट और कॉलेज-विशिष्‍ट। मंत्रालय जरूरतमंद छात्रों को राष्‍ट्रीय एवं बाह्य छात्रवृत्तियां प्रदान करता है।

मंत्रालय की राष्‍ट्रीय छात्रवृत्तियां हैं:

  • कॉलेज और विश्‍वविद्यालय छात्रों के लिए छात्रवृत्ति की केन्‍द्र क्षेत्र योजना।
  • मैट्रिक बाद हिन्‍दी में अध्‍ययन के लिए अहिन्‍दी भाषी राज्‍यों से छात्रों को छात्रवृत्ति योजना।
  • नि:शक्‍तता वाले छात्रों के लिए छात्रवृत्ति योजना – सामाजिक न्‍याय और अधिकारिता मंत्रालय की योजना।
  • जम्‍मू और कश्‍मीर के लिए विशेष छात्रवृत्ति योजना।

मंत्रालय के माध्‍यम से दी जाने वाली बाह्य छात्रवृत्तियां हैं:

वर्तमान में मंत्रालय निम्‍नलिखित छात्रवृत्तियां देने को सुसाध्‍य बनाता है:

  • यूनाइटेड किंगडम और न्‍यूजीलैंड के लिए कॉमनवेल्‍थ छात्रवृत्तियां
  • चीन, कोरिया, इजराइल, जापान, बेल्जियम, इटली, मेक्सिको, तुर्की और श्रीलंका द्वारा दी जाने वाली छात्रवृत्तियां
  • अगथा हेरिसन मेमोरियल अध्‍येतावृति जिसका संपूर्ण वित्‍त पोषण भारत सरकार द्वारा किया जाता है।

मंत्रालय भारत को वापिस न आने की बाध्‍यता (नोरी) प्रमाणपत्र भी जारी करता है जिसकी कनाडा, यूएसए, सिंगापुर इत्‍यादि के आदिवासी भारतीयों को जरूरत होती है।

उपर्युक्‍त सभी के अतिरिक्‍त मंत्रालय शैक्षिक ऋण सहायता (सीएसआईएस) संबंधी केन्‍द्रीय योजना को भी चलाती है।